[ccpw id="5"]

HomeBlockchainWhat is Cryptocurrency-क्रिप्टोकरेंसी क्या है

What is Cryptocurrency-क्रिप्टोकरेंसी क्या है

-

क्रिप्टोकरेंसी क्या है – What is Cryptocurrency 

क्रिप्टो मुद्रा (Crypto currency)

Crypto currency को digital money भी कहा जा सकता है क्यूंकि ये केवल Online ही उपलब्ध है और इसे हम physically लेन देन नहीं कर सकते. क्रिप्टो-मुद्रा या क्रिप्टो एक डिजिटल संपत्ति है जिसे एक्सचेंज के माध्यम के रूप में काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसमें व्यक्तिगत सिक्का स्वामित्व रिकॉर्ड को एक कम्प्यूटरीकृत डेटाबेस के रूप में मौजूदा बहीखाता के रूप में संग्रहित किया जाता है, जो क्रिप्टोकरेंसी के रूप में मजबूत क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके सुरक्षित रिकॉर्ड को नियंत्रित करता है। अतिरिक्त सिक्कों का निर्माण, और सिक्के के स्वामित्व के हस्तांतरण की पुष्टि करना। यह आमतौर पर भौतिक रूप में मौजूद नहीं होता है (जैसे पेपर मनी) और आमतौर पर एक केंद्रीय प्राधिकरण द्वारा जारी नहीं किया जाता है। Cryptocurrency आमतौर पर केंद्रीयकृत डिजिटल मुद्रा और केंद्रीय बैंकिंग प्रणालियों के विपरीत विकेंद्रीकृत नियंत्रण का उपयोग करती है। जब किसी क्रिप्टोक्यूरेंसी को एक जारीकर्ता द्वारा जारी या जारी किए जाने से पहले खनन या बनाया जाता है, तो इसे आमतौर पर केंद्रीकृत माना जाता है। जब विकेन्द्रीकृत नियंत्रण के साथ लागू किया जाता है, तो प्रत्येक Cryptocurrency वितरित लेज़र तकनीक के माध्यम से काम करती है, आमतौर पर एक ब्लॉकचेन, जो एक सार्वजनिक वित्तीय लेनदेन डेटाबेस के रूप में कार्य करता है।Cryptocurrency दो शब्दों से मिलकर बना शब्द है. Crypto जोकि लैटिन भाषा का शब्द है जो cryptography से बना है और जिसका मतलब होता है, छुपा हुआ/हुई. जबकि Currency भी लैटिन के currentia से आया है, जो कि रुपये-पैसे के लिए इस्तेमाल होता है. तो क्रिप्टोकरेंसी का मतलब हुआ छुपा हुआ पैसा. या गुप्त पैसा. या डिजिटल रुपया. आमतौर पर Crypto currency  एक तरह का डिजिटल पैसा है, जिसे आप छू तो नहीं सकते, लेकिन रख सकते हैं. यानी यह मुद्रा का एक डिजिटल रूप है. यह किसी सिक्के या नोट की तरह ठोस रूप में आपकी जेब में नहीं होता है. यह पूरी तरह से ऑनलाइन होता है.

इसे आसान भाषा में ऐसे समझिए कि हर देश की अपनी मुद्रा (Currency) है. जैसे कि भारत के पास रुपया, अमेरिका के पास डॉलर, सउदी अरब के पास रियाल, इंग्लैंड के पास यूरो है. हर देश की अपनी-अपनी करेंसी हैं. यानी एक ऐसी धन-प्रणाली जो किसी देश द्वारा मान्य हो और वहां के लोग इसके इस्तेमाल से जरूरी चीजें खरीद सकते हों. यानी जिसकी कोई वैल्यू हो, करेंसी (Currency) कहलाती है. आसान भाषा में कहें तो क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) एक डिजिटल कैश (Digital Money) प्रणाली है, जो कम्प्यूटर एल्गोरिदम पर बनी है. यह सिर्फ डिजिट के रूप में ऑनलाइन रहती है. इस पर किसी भी देश या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है.

क्रिप्टोक्यूरेंसी का इतिहास (history)

1983 में, अमेरिकी क्रिप्टोग्राफर David Chaum ने एक अज्ञात क्रिप्टोग्राफिक इलेक्ट्रॉनिक पैसे की कल्पना की, जिसे एक्श कहा जाता है। बाद में, 1995 में, उन्होंने इसे डिजिकैश के माध्यम से लागू किया, क्रिप्टोग्राफ़िक इलेक्ट्रॉनिक भुगतानों का एक प्रारंभिक रूप, जिसे बैंक से नोट वापस लेने और प्राप्तकर्ता को भेजे जाने से पहले विशिष्ट एन्क्रिप्टेड कुंजियों को निर्दिष्ट करने के लिए उपयोगकर्ता सॉफ़्टवेयर की आवश्यकता होती है। इसने जारीकर्ता बैंक, सरकार या किसी तीसरे पक्ष द्वारा डिजिटल मुद्रा को अप्राप्य होने की अनुमति दी।

1996 में, नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी ने हाउ टू मेक टू मिंट: एनक्रिप्टेड इलेक्ट्रॉनिक कैश की क्रिप्टोग्राफ़ी का एक पेपर प्रकाशित किया, जिसमें एक Crypto currency प्रणाली का वर्णन किया गया, पहले इसे एक एमआईटी मेलिंग सूची में और बाद में 1997 में अमेरिकन लॉ रिव्यू में प्रकाशित किया

1998 में, वी दाई ने “बी-मनी” का वर्णन प्रकाशित किया, जिसे एक अनाम के रूप में दिखाया गया, जो इलेक्ट्रॉनिक कैश सिस्टम वितरित करता था। इसके तुरंत बाद, Nick Szabo ने बिट गोल्ड का वर्णन किया। Nick Szabo एक कंप्यूटर वैज्ञानिक, कानूनी विद्वान और क्रिप्टोग्राफर डिजिटल अनुबंध और डिजिटल मुद्रा में अपने शोध के लिए जाना जाता है। बिटकॉइन और अन्य Crypto currency की तरह जो इसका पालन करेंगे, बिट गोल्ड (बाद के गोल्ड-आधारित एक्सचेंज के साथ भ्रमित नहीं होना चाहिए, बिटगोल्ड) को एक इलेक्ट्रॉनिक मुद्रा प्रणाली के रूप में वर्णित किया गया था, जिसके लिए उपयोगकर्ताओं को क्रिप्टोकरेंसी के समाधान के साथ कार्य फ़ंक्शन का एक प्रमाण पूरा करना आवश्यक था। और प्रकाशित किया गया।

पहली विकेन्द्रीकृत Crypto currency, बिटकॉइन, 2009 में संभवतः नाम के डेवलपर Satoshi Nakamoto द्वारा बनाया गया था। इसने अपने प्रमाण-कार्य योजना में SHA-256, एक क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शन का उपयोग किया। अप्रैल 2011 में, नामेकोइन को विकेंद्रीकृत डीएनएस बनाने के प्रयास के रूप में बनाया गया था, जो इंटरनेट सेंसरशिप को बहुत मुश्किल बना देगा। इसके तुरंत बाद, अक्टूबर 2011 में, Litecoin को रिलीज़ किया गया। यह SHA-256 के बजाय अपने हैश फ़ंक्शन के रूप में उपयोग किया गया। एक अन्य उल्लेखनीय क्रिप्टोक्यूरेंसी, Peercoin ने प्रूफ-ऑफ-वर्क / प्रूफ-ऑफ-स्टेक हाइब्रिड का इस्तेमाल किया।

6 अगस्त 2014 को, यूके ने घोषणा की कि ट्रेजरी को क्रिप्टोकरेंसी के अध्ययन के लिए कमीशन किया गया था, और यदि कोई भूमिका, तो वे यूके की अर्थव्यवस्था में खेल सकते हैं। अध्ययन में यह भी बताया गया था कि क्या विनियमन पर विचार किया जाना चाहिए।

क्रिप्टोकरेंसी की वैधता (validity)

Crypto currency की कानूनी स्थिति एक देश से दूसरे देश में काफी भिन्न होती है और अभी भी उनमें से कई में अपरिभाषित है या बदल रही है। कम से कम एक अध्ययन से पता चला है कि अवैध वित्त में बिटकॉइन के उपयोग के बारे में व्यापक सामान्यीकरण काफी हद तक समाप्त हो गए हैं और ब्लॉकचेन विश्लेषण एक प्रभावी अपराध से लड़ने और खुफिया जानकारी जुटाने का उपकरण है। जबकि कुछ देशों ने स्पष्ट रूप से उनके उपयोग और व्यापार की अनुमति दी है, दूसरों ने इसे प्रतिबंधित या प्रतिबंधित किया है। कांग्रेस की लाइब्रेरी के अनुसार, आठ देशों में अल्जीरिया, बोलीविया, मिस्र, इराक, मोरक्को, नेपाल, पाकिस्तान और संयुक्त अरब अमीरात: Crypto currency  के व्यापार या उपयोग पर “पूर्ण प्रतिबंध” लागू होता है। एक अन्य 15 देशों में “निहित प्रतिबंध” लागू होता है, जिसमें बहरीन, बांग्लादेश, चीन, कोलंबिया, डोमिनिकन गणराज्य, इंडोनेशिया, ईरान, कुवैत, लेसोथो, लिथुआनिया, मकाऊ, ओमान, कतर, सऊदी अरब और ताइवान शामिल हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में, उत्तर अमेरिकी प्रतिभूति प्रशासक संघ के माध्यम से समन्वित राज्य और प्रांतीय प्रतिभूति नियामक, 40 न्यायालयों में “बिटकॉइन घोटाले” और ICO की जांच कर रहे हैं।

विभिन्न सरकारी एजेंसियों, विभागों और अदालतों ने बिटकॉइन को अलग-अलग रूप में वर्गीकृत किया है। चाइना सेंट्रल बैंक ने 2014 की शुरुआत में चीन में वित्तीय संस्थानों द्वारा बिटकॉइन की हैंडलिंग पर प्रतिबंध लगा दिया था।

हालांकि, रूस में क्रिप्टोकरेंसी कानूनी है, लेकिन वास्तव में रूसी रूबल के अलावा किसी भी मुद्रा के साथ सामान खरीदना गैरकानूनी है। बिटकॉइन पर लागू होने वाले विनियम और प्रतिबंध संभवतः समान Crypto currency  सिस्टम का विस्तार करते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी रूस, ईरान, या वेनेजुएला के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंधों से बचने के लिए एक संभावित उपकरण है। रूस ने गुप्त रूप से पेट्रो (एल पेट्रो) के निर्माण के साथ वेनेज़ुएला का समर्थन किया, एक राष्ट्रीय क्रिप्टोक्यूरेंसी जो अमेरिकी प्रतिबंधों को दरकिनार करके मूल्यवान तेल राजस्व प्राप्त करने के लिए मादुरो सरकार द्वारा शुरू की गई थी। [उद्धरण वांछित]

अगस्त 2018 में, बैंक ऑफ थाईलैंड ने अपनी स्वयं की क्रिप्टोक्यूरेंसी, सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) बनाने की योजना की घोषणा की।

साल 2018 में भारत की सेंट्रल बैंक ने भी क्रिप्टोकरंसी पर ट्रेड करने पर बैन लगा दिया था, और साल 2019 में क्रिप्टो करेंसी को भारत में पूरी तरह से बैन करने के लिए एक ड्राफ्ट तैयार किया गया था। लेकिन मार्च 2020 में भारत की सर्वोच्च न्यायालय ने क्रिप्टो करेंसी पर लगे बैन को पूरी तरह से हटा दिया था।

 

किसने बनाई और क्यों बनाई Crypto currency  ?

इस बारे में क्षितिज बताते हैं कि बहुत सारे लोग मानते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी 2009 में सतोशी नाकामोतो ने शुरू किया था, लेकिन ऐसा नहीं है. इससे पहले भी कई निवेशकों ने या देशों ने डिजिटल मुद्रा पर काम किया था. यूएस ने 1996 मुख्य इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड बनाया था, ऐसा गोल्ड जिसे रखा नहीं जा सकता था, लेकिन इससे दूसरी चीजें खरीदी जा सकती थीं. हालांकि 2008 इसे बैन कर दिया गया. वैसा ही 2000 की साल में नीदरलैंड ने पेट्रोल भरने के लिए कैश को स्मार्ट कार्ड से जोड़ा था.

Bitcoin सबसे महंगी Virtual Currency

आसान भाषा में कहें तो Crypto currency  एक डिजिटल कैश प्रणाली है, जो कम्प्यूटर एल्गोरिदम पर बनी है. यह सिर्फ डिजिट के रूप में ऑनलाइन रहती है. इस पर किसी भी देश या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है. शुरुआत में इसे अवैध करार दिया गया था. लेकिन बाद में Bitcoin की बढ़ती लोकप्रियता के चलते इसे कई देशों में लीगल कर दिया गया है. कुछ देश तो अपनी खुद की Crypto currency  ला रहे हैं. Bitcoin दुनिया की सबसे महंगी वर्चुअल करेंसी है.

कैसे काम करती है Cryptocurrency ?

पिछले कुछ सालों से Crypto currency  मुद्राओं की लोकप्रियता बढ़ी है. इन्हें ब्लॉकचेन सॉफ़्टवेयर के ज़रिए इस्तेमाल किया जाता है. ये डिजिटल मुद्रा इनक्रिप्टेड यानी कोडेड होती हैं. इसे एक डिसेंट्रेलाइज्ड सिस्टम के जरिए मैनेज किया जाता है. इसमें प्रत्येक लेन-देन का डिजिटल सिग्नेचर द्वारा वेरिफिकेशन होता है. क्रिप्टोग्राफी की मदद से इसका रिकॉर्ड रखा जाता है. क्षितिज बताते हैं कि इसके जरिए खरीदी को क्रिप्टो माइनिंग (Cryptocurrency Mininig) कहा जाता है क्योंकि हर जानकारी का डिजिटल रूप से डेटाबेस तैयार करना पड़ता है. जिनके द्वारा यह माइनिंग की जाती है, उन्हें माइनर्स कहा जाता है.

आसान भाषा में और समझें तो Crypto currency  ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारिक एक वर्चुअल करेंसी है जो क्रिप्टोग्राफी द्वारा सुरक्षित है. यह सारा काम पावरफुल कंप्यूटर्स के जरिए होता है. क्षितिज तो यहां तक कहते हैं कि इसके कोड को कॉपी करना लगभग नामुमकिन है.

कैसे होता है  Cryptocurrency  लेन-देन ?

Crypto currency  में जब भी कोई ट्रैंजेक्शन होता है तो इसकी जानकारी ब्लॉकचेन में दर्ज की जाती है, यानी उसे एक ब्लॉक में रखा जाता है. इस ब्लॉक की सिक्योरिटी और इंक्रिप्शन का काम माइनर्स का होता है. इसके लिए वे एक क्रिप्टोग्राफिक (Cryptographic) पहेली को हल कर ब्लॉक के लिए उचित Hash (एक कोड) खोजते हैं.

हैश खोजने के बाद क्या होता है?

जब कोई माइनर पुख्ता hash खोजकर ब्लॉक सिक्योर कर देता है तो उसे ब्लॉकचेन से जोड़ दिया जाता है और नेटवर्क में दूसरे नोड (Compuers) के जरिए उसे वेरिफाई किया जाता है. इस प्रक्रिया को आम सहमति (consensus) कहा जाता है.

आम सहमति मिलने के बाद क्या होता है?

अगर consensus हो गया समझिए ब्लॉक के सिक्योर होने की पुष्टि हो गई. वह सही पाया जाता है तो उसे सिक्योर करने वाले माइनर को क्रिप्टोक्वॉइन (cryptocoin) दे दिए जाते हैं. यह एक रिवार्ड है जिसे काम का सबूत माना जाता है.

कितने की तरह होती हैं Crypto currency  ?

अब दिमाग में एक सवाल यह भी उठ रहा है कि यह डिजिटल रूप में है तो कितने तरह की होती है. इसको लेकर क्षितिज पुरोहत बताते हैं कि देखा जाये तो कुल 1800 से ज्यादा क्रिप्टो मुद्राएं उपलब्ध हैं. जिन्हें आप Bitcoin के अलावा भी इस्तेमाल कर सकते हैं. एथेरियम (ETH), लिटकोइन (LTC), डॉगकॉइन (Dogecoin) फेयरकॉइन (FAIR), डैश (DASH), पीरकॉइन (PPC), रिपल (XRP) हैं.

Crypto currency  पर भरोसा कैसे करें ?

क्षितिज कहते हैं कि लोगों ने भविष्यवाणी की थी कि बिटकॉइन लगभग $180-$200 के आसपास आकर खत्म हो जाएगा. लेकिन जनता द्वारा बड़े पैमाने पर अपनाने के साथ और यह अधिक विश्वास प्राप्त कर रहा है. पिछली तिमाही में बिटकॉइन (Bitcoin) के मार्केट कैप में लगभग $700 मिलियन डॉलर जोड़े थे. हालांकि, सितंबर 2020 के बाद से कीमत लगभग दोगुने से अधिक है.

कई देश लाने वाले हैं  अपनी  Cryptocurrency

हालांकि इस बात पर बहस होती रही है कि यह बबल स्पेस में है और किसी भी समय यह फट सकता है लेकिन बड़े पैमाने पर स्वीकृति और नए निवेशकों द्वारा प्रवेश करने से और अधिक वैल्युएबल हो गया है. भरोसा तो करना ही पड़ेगा क्योंकि कई देश अब अपनी Crypto currency  लाने पर विचार कर रहे हैं. पहले सरकार इसे बैन करने पर विचार कर रही थी, लेकिन अब इसमें नरमी देखी गई है.

भारतीय Crypto मार्केट प्लेयर कौन-कौन हैं?

बढ़ती लोकप्रियता के चलते अब बाजार में ढेरो क्रिप्टो एक्सचेंज प्लेटफॉर्म्स हैं. ऐसे में देश में Bitcoin और Dogecoin जैसी क्रिप्टोकरेंसी को खरीदना और बेचना काफी आसान है. पॉपुलर प्लेटफॉर्म्स में WazirX, Zebpay, Coinswitch Kuber और CoinDCX GO के नाम शामिल हैं. इन्वेस्टर्स Coinbase और Binance जैसे इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म्स से Bitcoin, Dogecoin और Ethereum जैसी दूसरी क्रिप्टोकरेंसी भी खरीद सकते हैं.

सबसे खास बात यह है कि खरीदारी के ये सभी प्लेटफॉर्म चौबीसों घंटे खुले रहते हैं. क्रिप्टोकरेंसी को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया भी काफी आसान है. आपको केवल इन प्लेटफॉर्म्स पर साइन अप करना होगा. इसके बाद अपना KYC प्रोसेस पूरा कर वॉलेट में मनी ट्रांसफर करना होगा. इसके बाद आप खरीदारी कर पाएंगे.

क्रिप्टो के साथ क्या-क्या किया जा सकता है?

Crypto currency  से दुनिया का सबसे महंगा हीरा खरीदा गया है. इससे साफ हो गया है कि इससे भौतिक चीजें भी भविष्य में खरीदी जा सकेंगी. हालांति Cryptocurrency  को नोट और सिक्कों के रूम में प्रिंट नहीं किया जा सकता है. लेकिन फिर भी इसकी अपनी वैल्यू है. Cryptocurrency से आप सामान खरीद सकते हैं, Trade कर सकते हैं और इन्वेस्ट कर सकते हैं, लेकिन अपनी तिजोरी में नहीं रख सकते. न ही बैंक के लॉकर में रख सकते हैं. क्योंकि यह Digits के रूप ऑनलाइन रहती है. इसे डिजिटल मनी, वर्चुअल मनी और इलेक्ट्रॉनिक मनी भी कहा जाता है. इसकी वैल्यू फिजिकल करेंसी से कहीं ज्यादा है. कुछ टॉप Crypto currency  की वैल्यू तो डॉलर से भी हजारों गुना ज्यादा है.

Cryptocurrency मार्केट क्या है?

वह जगह जहां Cryptocurrency की खरीद-फरोख्त और ट्रेडिंग होती है. इसे cryptocurrency Exchange, Digital Currency Exchange (DCE), Coin market और Crypto Market जैसे नामों से जाना जाता है.

क्रिप्टो का भविष्य क्या है?

Bitcoin के बारे में दो बातें सबसे अहम हैं- एक, ये डिजिटल यानी इंटरनेट के ज़रिए इस्तेमाल होने वाली मुद्रा है और दूसरे, इसे पारंपरिक मुद्रा के विकल्प के तौर पर देखा जाता है. Crypto currency  को इस समय भरोसे के संकट का सामना करना पड़ रहा है. सरकारें इसे शक़ की निगाहों से देखती हैं और इसे पारंपरिक करेंसी के लिए ख़तरा मानती हैं. सरकारों को ये भी लगता है कि Crypto currency  एक ऐसी वर्चुअल दुनिया का हिस्सा है जो सरकारी नियंत्रण से मुक्त होने की कोशिश कर रही है और वास्तविक दुनिया के समानांतर चलने की कोशिश कर रही है.

क्या वाकई में Cryptocurrency  से कार-गाड़ी जैसी कोई चीज़ खरीद सकते हैं?

इसके जवाब में क्षितिज कहते हैं कि हां, क्रिप्टो एक भारतीय रुपये की तरह है जिसका अपना मूल्य है. अभी, क्रिप्टो दुनियाभर की अधिकांश सरकार द्वारा स्वीकार नहीं किया गया है. जब ऐसा होगा, तो हमारे पास किसी भी अन्य मुद्रा की तरह क्रिप्टो मुद्रा का उपयोग होगा. क्योंकि यह लोगों के बीच साधारण विनिमय का हिस्सा होगा.

CryptoCurrency के फायदे

  • क्रिप्टोकरेंसी एक Digital Currency है।
  • Crypto currency में fraud होने के chances बहुत ही कम हैं
  • क्रिप्टोकरेंसी को खरीदना, बेचना और Invest करना बहुत आसान है।
  • क्रिप्टोकरेंसी के लिए किसी Bank की जरूरत नहीं है।
  • Crypto currency की अगर बात की जाये तो ये normal digital payment से ज्यादा secure होते हैं.
  • इसमें account बहुत ही secure होते हैं क्यूंकि इसमें अलग अलग प्रकार के Cryptography Algorithm का इस्तमाल किया जाता है.
  • क्रिप्टोकरेंसी, Investment के लिए बहुत ही अच्छा विकल्प है।
  • क्रिप्टोकरेंसी को किसी भी राज्य अथवा सरकार द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता

Cryptocurrency के नुकसान

  • अगर आपका Wallet के ID खो जाती है तब वो हमेशा के लिए खो जाती है क्यूंकि इसे दुबारा प्राप्त करना संभव नहीं है. ऐसे में आपके जो भी पैसे आपके wallet में स्तिथ होते हैं वो सदा के लिए खो जाते हैं.
  • Cryptocurrency में एक बार transaction पूर्ण हो जाने पर उसे reverse कर पाना असंभव होता है क्यूंकि इसमें वैसे कोई options ही नहीं होती है.
  • देश और दुनियाभर में तेजी से बढ़ रहा है क्रिप्टोकरेंसी का चलन
  • क्रिप्टो किसी को भी घंटों के अंदर बना सकती है मालामाल तो कर सकती है कंगाल भी
क्रिप्टोकरेंसी_ क्या_ है _CRYPTO_ CURRENCY
क्रिप्टोकरेंसी /CURRENCY/ cryptonewsinhindi.in
What is Cryptocurrency-क्रिप्टोकरेंसी क्या है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

LATEST POSTS

Binance लिस्टिंग के दौरान रॉकेटपूल(RocketPool) में उछाल

Binance लिस्टिंग के दौरान रॉकेटपूल(RocketPool) में उछाल Binance की ट्रेडिंग सूची में अपने हाल के प्लेसमेंट के बाद, RocketPool 7 महीने के उच्च स्तर पर पहुंचने...

क्रिप्टो भुगतान ऐप MoonPay ने यूके रेगुलेटर पंजीकरण प्राप्त किया

क्रिप्टो भुगतान ऐप MoonPay ने यूके रेगुलेटर पंजीकरण प्राप्त किया मनी लॉन्ड्रिंग नियमों के अनुपालन को दर्शाते हुए, फर्म को शुक्रवार तक वित्तीय आचरण प्राधिकरण के...

भारतीय कर प्राधिकरण(Tax Authorities) क्रिप्टो गतिविधियों के लिए उच्चतम 28% जीएसटी (GST) स्लैब पर विचार कर रहे हैं: रिपोर्ट

भारतीय कर प्राधिकरण(Tax Authorities) क्रिप्टो गतिविधियों के लिए उच्चतम 28% जीएसटी(GST) (GST) स्लैब पर विचार कर रहे हैं: रिपोर्ट क्रिप्टो सेक्टर पर भारत सरकार का सख्त...

भारत में लॉन्च होने के कुछ ही दिनों बाद Crypto exchange कॉइनबेस (Coinbase) ने यूपीआई भुगतान को निष्क्रिय कर दिया

भारत में लॉन्च होने के कुछ ही दिनों बाद Crypto exchange कॉइनबेस (Coinbase) ने यूपीआई भुगतान को निष्क्रिय कर दिया इकोनॉमिक टाइम्स ने बताया कि क्रिप्टो...

Follow us

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Most Popular

spot_img